कॉलेज के टीचर की उसके घर में चुदाई

टीचर की चुदाई में पढ़े कि, मेरी टीचर एक जमाने में मेरे साथ ही पढ़ती थी। फिर वो मेरी टीचर बनी और मैंने उसको चोद दिया। उसको भी मुझसे खुदको चुदवाने में बहुत मजा आया।

मेरा नाम राजा है। मै हैदराबाद में रहता हूं। मेरा कद 6 फीट का है। मै बहुत गोरा हु। मैंने अच्छी खासी बॉडी बनाई है। मै बिल्कुल हीरो जैसा लगता हु। मेरे कॉलेज की सभी लड़कियां मुझ पर मरती थी। लेकिन मै किसी को भी भाव नहीं देता था। मेरे लंड का साइज़ 6 इंच का है।

मै पहले आपको मेरी पिछली जिंदगी में ले कर चलता हु। मेरी पिछली जिंदगी का इस कहानी में बहुत बड़ा हाथ है। 

मै ग्रैजुएशन के आखरी साल में पढ़ रहा था। मै पढ़ाई में बिलकुल भी अच्छा नहीं था। वो साल मै फेल हो गया था। फिर से मै ग्रैजुएशन के आखरी साल में था। लेकिन इसबार मेरे साथ कोई भी मेरा दोस्त नहीं था। मै पढ़ाई में अच्छा नहीं था। फिर भी लड़कियां मुझपर बहुत मरती थी।

उस कक्षा में बहुत सी अच्छी लड़कियां थी। लेकिन मै किसीको भाव नहीं देता था। उस कक्षा में एक लडकी पीछे बैठती थी। वो बहुत ही मोटी थी। उसे सब लोग मोटी करके चिढ़ाते थे। इसीलिए वो किसीसे भी बात नहीं करती थी।

मै तब अच्छी लड़कियों पर ध्यान नहीं देता था। तो वो लडकी तो मोटी थी उसपर कैसे ध्यान देता। एक बार वो मेरे पास डरी हुई हालत में आई। वो कुछ बोलना चाहती थी लेकिन शायद उसकी हिम्मत नहीं हो रही थी। वो मेरे क्लास में सबसे होशियार लडकी थी। इसीलिए मैंने ही उससे बात कि। मैंने बोला कि अगर मै पेपर में तुम्हारे पीछे आया तो क्या तुम मुझे अपना पेपर दिखाओगी। उसने हां बोल दी। उसका नाम मोनिका था।

हमारे पेपर आ गए। पहले पेपर को वो मेरे सामने आई। उसने मेरा एक पेपर पास करने में पूरी मदत कि। लेकिन अगले पेपर को मै फिर से फेल हो गया। और सभी लड़के लड़कियां मुझसे आगे निकल गए। मै फिर से उस कक्षा में रह गया।

अगले और 3 साल तक मै उसी कक्षा में रह गया। मैंने इस बार तय कर लिया था कि ये मेरा आखरी बार पेपर देना होगा। अगर मै इस साल नहीं पास हुआ तो मै पढ़ाई छोड़ दूंगा।

उस साल मेरे भूगोल विषय के लिए एक नई मैडम आई थी। वो बहुत ही हॉट और सेक्सी थी। उसका फिगर कमाल था। उसके बड़े बड़े बूब्स थे। उसका पेट अंदर था। उसकी गांड़ बहुत ही हॉट थी। कोई भी उसे देख ले तो वो पढ़ाई छोड़ कर उसे चोदने का खयाल करे।

पहले दिन वो हमारी कक्षा में आई। उसने नीले कलर की साड़ी पहनी हुई थी। और स्लीव लेस वाला ब्लाउस पहना था। वो बहुत गोरी थी। उसके चिकने चिकने हाथ देख कर सभी लडको के मन में लड्डू फूटा। 

जैसे ही वो हमे पढ़ने के लिए पीछे पलटी। उसका ब्लाउज पीछे से बहुत खुला हुआ था। उस में से उसकी चिकनी पीठ दिख रही थी। उसकी पीठ देख कर सबके लंड खड़े हो गए थे। मेरा भी लंड खड़ा हो गया था। मैंने आज तक ऐसी लड़की नहीं देखी थी। उसने अपना नाम मोनिका बताया था।

लेकिन मै अभी पढ़ाई के मूड में था। इसीलिए मुझे किसी लड़की का चक्कर नहीं चाहिए था। मै पढ़ाई में लग गया। वो दिन निकल गया। मैंने अच्छी पढ़ाई की थी। लेकिन मेरा भूगोल सबसे कमजोर विषय था।

अगले दिन मोनिका टीचर फिर से आई। वो पढ़ाने में व्यस्त हो गई। जैसे वो पीछे पलटी उसको किसीने कागज फेक कर मारा। उसने पीछे पलट कर देखा। और मुझे कक्षा से बाहर निकाल दिया। मैंने उनको बहुत बोला कि मैंने कुछ नहीं किया। फिर भी उन्होंने मेरी एक भी नहीं सुनी।

कक्षा खत्म होने के बाद वो मुझे अकेले में जाते हुए दिखी। मैंने उनसे पूछा कि टीचर मैंने कुछ भी नहीं किया था। उसने बोला मुझे पता है तुमने कुछ नहीं किया था। मैंने बोला फिर आपने मुझे बाहर क्यूं निकाला। तो वो बोली कि तुमने उससे भी बड़ी गलती की है। मैंने बोला कौनसी। वो बोली कि मेरा कॉलेज खत्म होने के बाद तुमने मुझे कभी फोन नहीं किया।

मैंने कहा मतलब। वो बोली कि तुमने मुझे अभी तक नहीं पहचाना क्या। मैंने बोला नहीं। वो बोली कि मेरे नाम वाली कौनसी लडकी से तुमने अपना पेपर छुडाने के लिए मदद ली थी। फिर मुझे याद आया। मै बोला अरे मोनिका।

फिर मैंने उसको बोला कि मै तुम्हे कैसे पहचानता। मै जिस मोनिका को जानता था वो गुब्बारा हुआ करती थी। अब खुदको देखो तुमने 200 किलो कम कर लिया है। वो हंस पड़ी।

फिर हम दोनो कॉफ़ी पीने चले गए। कॉफी पीते पीते उसने मुझे अपनी जिन्दगी के बारे में बताना चालू किया। वो बोली कि मैंने आगे  टीचर के लिए पढ़ाई की। और अपने ही कॉलेज ने मुझे टीचर की नौकरी दे दी।

फिर वो बोली कि तुम अभी तक क्यूं नहीं पास हुए। मैंने बोला मेरा भूगोल बहुत कमजोर है। वो बोली कोई बात नहीं मै तुम्हे सीखा दूंगी। मैंने बोला शुक्रिया। फिर हमारी इधर उधर की बाते करना चालू हुआ। वो और मै एक दूसरे से मिलकर बहुत खुश थे।

कुछ दिनों तक हम ऐसे ही मिलते थे। मेरे मन में उसके लिए वासना जाग रही थी। उसके मन का मुझे कुछ भी नहीं पता था। लेकिन मेरे साथ वो खुश रहने लगी थी। शायद उसके मन में भी मेरे लिए कुछ चल रहा था।

वो मुझे कक्षा के साथ साथ पुस्तकालय में भी पढ़ने लगी। मेरी अच्छी खासी पढ़ाई होने लगी थी। मुझे भूगोल अच्छा समझने लगा था। मुझे उससे प्यार होने लगा था। लेकिन मेरे लिए पहले पास होना जरूरी था। मैंने अपने कलेजे पर पत्थर रख लिया था।

मेरे पेपर को 3 दिन रह गए थे। मै डरा हुआ था। मैंने मोनिका टीचर को फोन किया। और बोला कि मै डरा हुआ हु। उसने मुझे पढ़ाई करने के लिए अपने घर बुला लिया। वो अकेले ही रहती थी। कुछ देर मैंने वहा पढ़ाई कि। वो अपना काम कर रही थी।

फिर वो मेरे पास आकर मेरे सामने बैठ गई। फिर उसने मुझसे बोला कि, क्या तुम्हे पता है, मैंने अपना वजन क्यूं काम किया। मैंने बोला क्यूं। वो बोली कि मै तुम्हे अपने कॉलेज के दिनों से बहुत पसन्द करती थी। लेकिन तुम मुझे उस मोटापे के साथ कभी पसन्द नहीं करते थे। इसीलिए मैंने अपना वजन कम किया।

मै चौक गया। क्योंकि मेरे मन जो उसके लिए भावना अभी आई थी। वो उसके मन में पहले से ही थी। फिर मैंने उसे बोला कि अब क्या करना फिर अपनी जिंदगी के बारे में। वो बोली पहले तुम पास हो जाओ उसके बाद सोचेंगे। मैंने बोला ठीक है।

फिर वो बोली ठीक है, अब देखते है कि तुम्हारी कितनी पढ़ाई हुई है। मैंने बोला कैसे। वो बोली कि मै तुम्हे सवाल पूछूंगी अगर तुमने उसके सही जवाब दिए तो मै अपने बदन पर के हर सवाल पे एक एक कपड़े उतारूंगी। मै खुश हुआ।

उसने पहला सवाल पूछा। मैंने उसका सही जवाब दे दिया। फिर उसने पहले अपना कुर्ता निकला और मेरे मुंह पे फेंक दिया। वो अभी मेरे सामने ब्रा पर थी। फिर उसने मुझे दूसरा सवाल पूछा। मैंने उसका भी सही जवाब दिया। फिर उसने अपने नीचे का पैजामा निकाला और मेरे मुंह पर फेंक दिया। अब वो मेरे सामने ब्रा और चड्डी पर थी। मुझे इस गेम में बहुत मजा आ रहा था।

फिर उसने तीसरा सवाल पूछा। लेकिन इसबार मेरा जवाब गलत हो गया। उसने बोला कि कल अच्छे से पढ़ाई करके आना हम लोग फिर से कल खेलेंगे। लेकिन उसका फिगर देख कर मुझसे रहा नहीं जा रहा था। 

उसने अपने कपड़े पहनना चालू किया। मैंने उसका हाथ पकड़ लिया। और उसके कपड़े पहनने से पहले ही मैंने उसे अपनी तरफ खींच लिया। उसको भी बहुत मजा  आ रहा था।

फिर हम दोनो ने एक दूसरे को चूमना चालू किया। चूमते चूमते उसने मेरे कपड़े उतारना चालू किया। मै भी उसके सामने सिर्फ चड्डी पर हो गया। वो बोली कि कब से मै इस चीज का इंतजार कर रही थी। मैंने बोला कि अब तुमने इतना कमाल का फिगर बनाया है कि मुझे भी इस चीज का बहुत दिनों से इंतजार था।

फिर मैंने उसकी ब्रा निकाली। उसके बड़े बूब्स को अपने हातो से पकड़ा। और उसकी चूचियां चूसना चालू किया। उसका दुख पी कर मुझे बहुत मजा आ रहा था। और उसको भी बहुत मजा आ रहा था।

फिर उसने मेरी चड्डी निकाली और मेरे बड़े लंड को अपने मुंह में ले लिया। वो मेरा लंड बहुत अच्छे से चूस रही थी। ऐसा लग रहा था कि कब से वो मेरे लंड को अपने मुंह में लेना चाह रही थी। कुछ देर लंड चुसाई करने के बाद मैंने उसे सोफे पर सुला दिया। 

फिर मैंने उसकी चड्डी निकाली। उसकी चूत पर छोटे छोटे बाल थे। लेकिन उसकी चूत गुलाबी थी। फिर मैंने उसकी चूत को चाटना चालू किया। उसकी आवाजे निकल रही थी। आह….आहह्ह्ह…..अह्ह्ह्ह…..आह….

फिर मैंने अपना गीला लंड उसकी गीली चूत में डाल दिया। जैसे ही मैंने अपने लंड को अंदर डाला वो जोर से आवाज करने लगी। आराम से आराम से…….

फिर मैंने उसे धीरे धीरे झटके मारना चालू किया। कुछ देर तक उसको दर्द होता रहा। उसकी मादक आवाजे निकल रही थी। कुछ देर बाद उसको बहुत मजा आने लगा था।

फिर मैंने उसे जोर जोर से चोदना चालू किया। उसको बझुत मजा आ रहा था। 20 मि. कि चुदाई के बाद मै और वो दोनो उसकी चूत में झड़ गए। हम दोनो को सेक्स करके बहुत मजा आया था।

ऐसी थी मेरे टीचर की चुदाई की कहानी। कहानी कैसी लगी इस बारे में नीचे कॉमेंट करे।