सुशीला भाभी का रेल गाड़ी में सेक्स

मैं सुशीला भाभी हु। मुझे सेक्स कि बहुत भूख है। एक दिन मैं रेल गाड़ी से मुंबई से गोवा जा रही थी। तब मेरी उमर 21 साल थी। वो जवानी की भूख कि उमर थी। और उस उमर में ऐसा लगता है कि कब आपकी शादी होगी और सुहागरात होगी। सिर्फ ऐसा ही इंतजार रहता है।

प्लीज आप मेरी पहली sex story भी पढ़िए, आपको स्टोरी पढ़ते ही मेरे अंदर सेक्स की कितनी आग है, पता चल ही जायेगा.

मेरी रेल गाड़ी में सीट बुक थी। मुझे खिड़की वाली सीट मिली जहा सिर्फ दो लोग बैठ सकते थे। मेरे साथ कोई भी नहीं था, में अकेले ही जा रही थी। मैं खिड़की के बाहर देख रही थी। तब श्याम के 5 बज रहे थे। मौसम बहुत सुहाना हो रहा था। हलकी सी बारिश भी हो रही थी। आप सबको पता है ऐसे मौसम में सेक्स करने की इच्छा होती ही है। मौसम में ठंडा पन बढ़ रहा था। और मौसम रोमांटिक हो रहा था। देखते ही देखते अगला स्टेशन आया। और मेरे सामने वाली सीट पर एक हट्टा-कट्टा मर्द आया, और मेरे मन में प्यार का लड्डू फूटा।

धीरे धीरे रात हो रही थी। उसके पैर मेरे पैरो को हल्के-हल्के छू रहे थे। हम एक दूसरे कि आंखो मे देख रहे थे। हमारी आंखों में सेक्स करने की भावना साफ साफ दिख रही थी , क्योंकि हम दोनो को ही ठंडी लग रही थी। कुछ देर बाद हमने इधर उधर की बातें करना चालू किया। कुछ देर में ही धीरे धीरे रात होने लगी, लोग धीरे धीरे सोने लगे। कुछ देर बाद पूरी रेल गाड़ी शांत हो गई। एक छोटिसी लाइट में हम दोनो ही जाग रहे थे।  फिर जोर से एक बिजली कड़की,  मै डर गई, और जाके उनको चिपक गई। उन्होंने मेरा कसके हाथ पकड़ लिया। फिर मुझे महसूस हुआ की  उनकी सांसे मेरी गर्दन पर नाच रही थी।

उन्होंने मेरे कान के नीचे चूमना चालू किया। मेरा सेक्स का कीड़ा जागने लगा, में उसको पूरा चिपक गई। रेल गाड़ी में तब पूरा अंधेरा था। उस ठंडी के मौसम में मै उनके जिस्म कि गर्मी को महसूस कर सकती थी। उन्होंने मेरे ड्रेस कि चैन खोली और मैंने भी उनके शर्ट के बटन खोले। हम एक दूसरे को चूमने लगे। हम दोनो का सेक्स का कीड़ा लग गया। उन्होंने मेरी चूचियां दबाई और मेरी गर्दन पर चूमने लगे। मैंने अपनी ब्रा के हुक निकले और उनको मेरा दूध पीने दिया। मुझे बहुत सुकून मिलने लगा था।

फिर उन्होंने मेरी पैंट ढीली कि, और मेरी चूत को सहलाने लगे। मैं गरम हो रही थी। फिर उन्होंने अपनी बड़ी उंगली मेरे मुंह में दी, उंगली गीली होने के बाद मेरी चूत में धीरे से डाल दी, और अंदर बाहर करने लगे। तब मेरे मुंह से हल्की सी आह… आह..  ऐसी आवाज आने लगी, तो उन्होंने मेरे होटोंको चूमना चालू किया।

कुछ देर उंगली का खेल चालू था। वो होने के बाद हम दोनों एक ही बाथरूम में घुस गए। उन्होंने मेरी और मैंने उनकी पैंट उतारी। फिर उन्होंने अपना लण्ड मेरे मुंह में में दे दिया, मै उसे अच्छी चूस रही थी। कुछ देर बाद उन्होंने मेरी चूत कि चुम्मी लेते हुए चाटना चालू कर दिया। उससे मुझे बहुत सुकून मिल रहा था। फिर वो  मुझे झुकाके चोदने लगे। वो जोर जोर से चोद रहे थे, मेरे मुंह से आह.. आह… आवाज निकल रही थी। मुझे बहुत मजा आ रहा था।

कुछ देर बाद वो मेरी चुत में ही झड़ गए , फिर मैंने उनके लण्ड को मुंह में ले लिया। दो ही मिनट में उनका खड़ा हो गया। फिर उन्होंने मुझे अपनी गोद में उठा लिया और गोद में ही चोदने लगे। वो उनका चोदने का तरीका मुझे बहुत पसंद आया। क्योंकि उस तरीके में मेरी चूचियां उनकी छाती को पूरी तरह से चिपक रहे थे।उसके साथ मै उनको चूम भी रही थी। वो जोर जोर से मुझे चोद रहे थे। और मै उनको हल्के हल्के से काट रही थी।

उनका फिर से लेड गिर गया, वो थोडा थक भी गए थे। लेकिन मुझे उनका वो उठाके चोदने का तरीका बहुत पसंद आया था, और मेरे सेक्स का कीड़ा अभी तक मरा नहीं था। इसीलिए मैं उनके गोद से उतरी ही नहीं, और उनको बोला कुछ भी करो मुझे चोदो। फिर उन्होंने बोला तुम एक काम करो मारा लंड पकड़ के अपनी चूत में डाल दो। फिर मैंने उनका लंड पकड़ के खुदको चुदवाना चालू कर दिया। उन्होंने तब भी मुझे जोर जोर से चोदा । उससे मुझे बहोत सुकून मिलता जा रहा था।वो आंखरी चुदाई 20 मिनट तक चली। मेरी हवस धीरे धीरे भुजती चली जा रही थी।

कुछ देर बाद वो थक गए। मुझे भी पूरी तरह सुकून मिल गया। फिर हम बाहर आ कर हमारी सीट पर बैठ गए। अगले ही स्टेशन पर वो उतर गए। लेकिन मैंने उनका नाम और पत्ता भी नहीं पूछा था। उनकी मुझे अभी भी बहुत याद आती है, लेकिन मै नही जानती वो कहा रहते है। क्या तुम में से कोई है वैसा जो मेरी हवस को बुझा सके अगर है तो प्लीज नीचे कमेंट (comment)  करे।

Related Stories

Bhabhi Ki Chudai – चॉल वाली भाभी की जोर जोर से चुदाई

मेरा नाम सागर है। मै anatrvasna कि कहानियां को हमेशा ही पढ़ता हु। और पढ़कर मै अपने लंड को हिला कर खुदको शांत कर लेता हु। आज आपको bhabhi ki chudai पढ़ के काफी मजा आने वाला है। Anatarvasna मेरी सबसे favorite story एक दिन अनजान भाभी के साथ ये है। आप भी इसे पढ़िएगा, आपको

पूरी कहानी पढ़ें »

पड़ोसी चाची की चुदाई

इंडियन भाभी सेक्स स्टोरीज में पढ़े कि,  मेरे बाजू में एक आंटी रहती थी। मै उनको चाची बुलाता था। चाची के पति फौज में हैं। और वो उनकी सेक्स कि भूख नहीं मिटा पाते हैं। इसलिए वो अपनी शारीरिक भूख से परेशान थीं। मैंने उनकी इस परेशानी को मिटाने में उनकी मदत कि। शुरुआत में

पूरी कहानी पढ़ें »

भाभी ने उसके बहन के लडकी की चुदाई मुझसे कराई।

भाभी सेक्स स्टोरीज में पढ़े कि मेरा चक्कर एक शादीशुदा भाभी से चल रहा था। उसका पति काम के सिलसिले में बाहर ही रहता था। भाभी की वासना को मिटाने काम मेरा ही था।  एक बार भाभी की बहन कि लड़की मतलब भाभी की भतीजी उसके घर एक महीने के लिए आई थी। तब उसने

पूरी कहानी पढ़ें »