केबल वाले से मैंने खुदको चुदवाया

देसी सेक्स में पढ़िए कि, मेरी अंतर्वासना बहुत ज्यादा है। मेरी सेक्स कि भूख अगर कोई मिटा भी देता है, तो मुझे थोड़ी देर के बाद और चुदाई लगती है। 

मैंने अपने पति से छुपकर कई लोगो से खुदको चुदवाया है। मुझे छोटा हो या बड़ा कोई भी लंड चलता है। मै मेरे सभी किस्सों में से आज मेरे केबल वाले का किस्सा बता रही हूं।

मेरा नाम सविता है। सब लोग मुझे सविता भाभी बुलाते है। मेरी शादी को 5 साल हो गए है। मुझे लगता है कि मेरे लिए इस दुनिया में कोई भी आदमी नहीं बना है जो मेरी सेक्स कि भूख को पूरी तरह मिटा सकता है।

मेरी उमर 31 साल है। मेरा फिगर 38, 28, 38 है।  कोई भी मेरे फिगर देखते ही मुझे चोदने का खयाल कर लेता है। मेरा कद 5.3 फीट का है। मेरा रंग गोरा चिट्ठा है। मेरे काले बाल है। 

मेरी शादी होने से पहले मै लडको में ज्यादा रहती थी। 19 साल कि उमर में मैंने पहली बार सेक्स किया था। मुझे बहुत मजा आया था। उसके बाद मेरी सेक्स कि भूख बहुत बढ़ती गई।

मै अपने सभी दोस्तों से खुदको चुदवाने लगी। मुझे बहुत मजा आने लगा था। शुरू शुरू में वो लोग मुझे पूरी तरह से संतुष्ट कर लेते थे। लेकिन धीरे धीरे मेरी सेक्स कि भूख बढने लगी। मै कई लोगो से खुदको चुदवाने लगी थी। 

एक बार तो मैंने मेरी अंतर्वासना के चक्कर में 1 दिन में 3 अलग अलग लोगो से खुदको चुदवा लिया था। लेकिन वो 3 लोग मिलकर भी मेरी अंतर्वासना को मिटा नहीं सके थे। मै हमेशा ही मुझे चोदने वालो की तलाश करने लगी थी। 

कई बार मुझे सेक्स के भुके लोग भी मिले। मुझे ऐसा लगता था कि ये लोग अगर सेक्स के भूखे है तो ये मेरी वासना को मिटा सकते है। तो मैंने उनसे खुदको चुदवाने के लिए एक रात के दो हजार रुपए लिए थे। लेकिन वो लोग भी मेरी भूख को मिटा नहीं सके थे। 

एक दिन मैंने अपने बुआ के लड़के से खुदको चुदवाने की कोशिश की। लेकिन उसने मेरी हरकतों के बारे में मेरे घर वालो को बता दिया। मेरे घर वालो ने मुझे बहुत मारा। और मेरी शादी करा दी।

मेरे पति का नाम सुजीत है। उनकी अच्छी खासी बॉडी है। लेकिन मुझे पता था कि इनका कितना भी बड़ा लंड होगा तो मेरी प्यास नहीं बुझा सकेगा। 

मेरा फिगर पहले से ही बहुत अच्छा रहा है। और शादी होने के बाद तो मेरा फिगर और कयामत हो गया है। कोई भी मुझे हवस के नजर से देखता है।

शादी के 1 साल तक मेरे पति मुझे रोज चोदते थे। मेरी सेक्स कि भूख तो मिट जाती थी। लेकिन थोड़ी सी रह ही जाति थी। लेकिन तब मै सोचती थी कि मुझे मेरी भूख को कम करना चाहिए, अब मेरी शादी हो गई है। और शादी के बाद लड़की को कोई भी चोदना नहीं चाहता है। ऐसा मुझे लगता था। 

शादी के 1 साल बाद मैंने अपने कलेजे पर पत्थर रख लिया। मैंने मेरे पति को एक दिन बोला कि  आप जब काम पर चले जाते हो तो मुझे बहुत बोर होता है। तो क्या आप मेरे लिए केबल लगवा दोगे। मेरे पति ने हां बोल दी।

उन्होंने केबल वाले से हमारे घर पर केबल कनेक्शन लगाने के लिए बात की। वो काम पर जाने के बाद केबल वाला आया। वो एक 21 साल का नौजवान था। 

मै उसे हवस की नजर से नहीं देख रही थी। लेकिन तब वो मुझे हवस की नजर से देख रहा था। मै समझ गई थी कि इसके मन में मेरे लिए कुछ ना कुछ चल रहा है। लेकिन तब मैंने इतना कुछ ध्यान नहीं दिया। वो चला गया।

2 दिन बाद केबल में कुछ प्रॉब्लम आया था। तो मेरे पति जाने के बाद वो फिर से आया था। तब भी वो मुझे हवस की नजर से देख रहा था। अब मैंने भी उसके ऊपर ध्यान दिया था।

मै जब किचन में जा रही थी। तब वो मेरी गांड को देख रहा था वो मेरी गांड को देख रहा है, ये बात मैंने आइने में देखी। मै समझ गई थी ये मुझे चोद सकता है।

वो अपना काम करके चला गया। मेरे मन में अपनी प्यास बुझाने का रास्ता दिख रहा था। लेकिन मेरे मन बहुत से सवाल चालू थे कि क्या मुझे अपने पति को धोका देना चाहिए। मेरी ये हवस सही है। मेरी ये वासना सही है या गलत है। 

मेरे मन के विचार मुझे सोने नहीं देते थे। मेरे पति मुझे रोज चोदते रहते थे। लेकिन मेरी प्यास नहीं बुझती थी। एक दिन मेरे पति ने मुझसे कहा कि क्या तुम्हे बच्चा चाहिए। तब मैंने सोचा कि अगर मुझे बच्चा हो गया तो कोई मुझे देखेगा भी नहीं तो मैंने मेरे पति से नहीं बोल दिया।

कुछ दिन बाद मैंने मेरे दूध वाले के नजर में भी मेरे लिए हवस देखी। फिर पेपर वाला भी मुझे हवस भरी निगाहों से देख रहा था। मेरे मन में ऐसा लग रहा था कि अब मेरी उमर है तो मुझे भी अपनी हवस मिटाने के लिए कुछ करना चाहिए।

कई दिनों तक मेरे मन ये बाते चल रही थी। एक दिन मेरे पति ने मुझसे कहा कि वो 2 दिन के लिए कम्पनी के काम से बाहर गांव जा रहे है। मै उदास हो गई थी। क्योंकि वो मुझे रोज चोदते थे। और अब  2 दिनो तक मुझे और मेरी वासना को अकेला रहना था। वो चले गए।

वो जाने के बाद मै अकेली हो गई थी। मेरा दिमाग काम नहीं कर रहा था। मुझे मेरी वासना मिटाने वाला कोई चाहिए था। मैंने सोचा कि अब पति की चिंता करने से कोई फायदा नहीं है। तो मैंने खुदकी वासना मिटाने का प्लान बनाया।

मेरे मन में पहले तो ये बात चली कि मै किसको मुझे चोदने के लिए बुलाऊं। कुछ देर सोच विचार करने के बाद मेरे मन में  दो नाम आए। एक तो दूधवाला और दूसरा केबलवाला।

मेरे मन में ये दोनो के बारे में सोचना चालू हुआ। मैंने सोचा दूध वाला 35 साल का है। और केबलवाल 21 साल का। तो मैंने सोचा कि इसमें से मुझे ज्यादा कौन चोदेगा।

मैंने सोचा कि 35 साल के तो मेरे पति भी है। तो मुझे केबल वाले के जवान लंड वाले को बुलाना चाहिए।

मैंने केबल वाले को फोन किया और बोला कि केबल में कुछ प्रॉब्लम हुई है। तो वो बोला बस जल्दी ही आता हूं। 

30 मीं. के बाद वो आया। उसने पूछा क्या प्रॉब्लम हुआ है भाभी। तो मैंने बोला तुम्हारे आने से पहले ही प्रॉब्लम ठीक हुआ। तो वो बोला चलो ठीक है तो मै जाता हूं। मैंने बोला अरे इतने दूर से आए हो तो अंदर आके पानी तो पी लो। वो बोला ठीक है।

उसको मैंने सोफे पर बैठाया। और उसके लिए किचन से पानी लाई और मै भी उसके बाजू में बैठ गई। उसका पानी पीने के बाद मै उसको चिपक के बैठ गई। और उसकी जांघो पर हाथ रख दिया। 

वो डर गया और बोला भाभी ये क्या के रहे हो आप। मैंने बोला क्यूं मुझे क्या सिर्फ तुम हवस कि नजर से देखते ही रहोगे क्या। आज मै तुम्हे तुम्हारी हवस मिटाने का मौका दे रही हूं। वो बोला भाभी आप मजाक तो नहीं कर रही हो ना। मैंने बोला मजाक में मै तुम्हारे लंड पर हाथ नहीं रखती थी। वो मान गया।

फिर उसने मुझे पूरे जोश से चूमना चालू किया। मैंने भी उसे चूमना चालू किया। मेरे लिए तो ये कोई नई बात नहीं थी। लेकिन उसकी वासना जोश जोश में मुझे चूम रही थी।

मैंने उससे पूछा कि क्या तुमने पहले कभी सेक्स किया है। तो उसने बोला नहीं आजतक मुझे कोई लडकी ने चोदने ही नहीं दिया। मैंने सिर्फ गंदी पिक्चर देखी है। मैंने कहा कि ठीक है आज मै तुम्हे सीखा दूंगी कि सेक्स कैसे किया जाता है। और एक लड़की को खुश कैसे किया जाता है वो भी मै तुम्हे सीखा दूंगी।

फिर मैंने उसके कपड़े उतारे और उसको पूरा नंगा कर लिया। उसका लंड बहुत छोटा था। फिर मैंने अपनी साड़ी उतारी और उसके सामने ब्रा और चड्डी पर खड़ी हो गई। वो मुझे सिर्फ ताड़ता रहा। फिर मैंने अपनी ब्रा निकाली। मेरे बड़े बड़े बूब्स देख कर वो चौंक गया। और मुझे बोला भाभी मैंने इतने बड़े सिर्फ पिक्चर में देखे है। आपके बूब्स बहुत बड़े है।

फिर मैंने उसका सर पकड़ कर अपने बूब्स में दबा लिया। और उसको बोला कि अब मेरा दूध पी लो। उसको और मुझे बहुत मजा आ रहा था। फिर उसने मेरी चूचियां चूसना चालू किया। मेरे अंदर से वासना निकल रही थी। मेरी हल्की आवाज निकल रही थी। आह…यो….या….येस…आह.

फिर उसने मेरी चड्डी उतारी। मै उसके सामने नंगी हो गई थी। फिर मैंने उसे सोफे पर बैठा लिया। मै अपने घुटने पर बैठ गई। और उसका लंड चूसने लगी। उसकी मादक आवाजे निकाल रही थी। आह…आह…वाह….

फिर मैंने उसे अपनी चूत चाटने के लिए कह दिया। मै सोफे पर लेट गई। उसने मेरी चूत को चाटना चालू किया। उसका ये पहला सेक्स था फिर भी वो मेरी चूत बहुत अच्छे से चाट रहा था।

कुछ देर चाटने के बाद उसने मेरी चूत में अपना लंड डाल दिया। मुझे ज्यादा कुछ दर्द नहीं हो रहा था। लेकिन जैसे ही उसने अपने छोटे लंड से मुझे धक्के मारना चालू किया तब मुझे बहुत मजा आ रहा था। 20 मि. तक वो मुझे धक्के मार रहा था। लेकिन उसका पहला सेक्स था इसीलिए वो मेरी चूत में जल्दी झड़ गया। मेरे लिए भी कुछ देर तक वासना मिटाने का इंतजाम हो गया था।

फिर मैंने उससे कहा कि मै जब भी तुम्हे बुलाऊंगी तब तुम आओगे क्या। उसने कहा अब तो मुझे आपकी लत लग गई है भाभी। आप नहीं भी बुलाओगे तब भी मै आपको खुश करने के लिए आ जाऊंगा। मैंने कहा सिर्फ मेरे पति के सामने मत आना। और कुछ देर बाद वो चला गया।

उसके बाद मैंने अपने आजूबाजू वालो से आज तक खुदको चुदवाया है। दूधवाले कि कहानी जानने के लिए कॉमेंट करे।

Related Stories

Bhabhi Ki Chudai – चॉल वाली भाभी की जोर जोर से चुदाई

मेरा नाम सागर है। मै anatrvasna कि कहानियां को हमेशा ही पढ़ता हु। और पढ़कर मै अपने लंड को हिला कर खुदको शांत कर लेता हु। आज आपको bhabhi ki chudai पढ़ के काफी मजा आने वाला है। Anatarvasna मेरी सबसे favorite story एक दिन अनजान भाभी के साथ ये है। आप भी इसे पढ़िएगा, आपको

पूरी कहानी पढ़ें »

पड़ोसी चाची की चुदाई

इंडियन भाभी सेक्स स्टोरीज में पढ़े कि,  मेरे बाजू में एक आंटी रहती थी। मै उनको चाची बुलाता था। चाची के पति फौज में हैं। और वो उनकी सेक्स कि भूख नहीं मिटा पाते हैं। इसलिए वो अपनी शारीरिक भूख से परेशान थीं। मैंने उनकी इस परेशानी को मिटाने में उनकी मदत कि। शुरुआत में

पूरी कहानी पढ़ें »

भाभी ने उसके बहन के लडकी की चुदाई मुझसे कराई।

भाभी सेक्स स्टोरीज में पढ़े कि मेरा चक्कर एक शादीशुदा भाभी से चल रहा था। उसका पति काम के सिलसिले में बाहर ही रहता था। भाभी की वासना को मिटाने काम मेरा ही था।  एक बार भाभी की बहन कि लड़की मतलब भाभी की भतीजी उसके घर एक महीने के लिए आई थी। तब उसने

पूरी कहानी पढ़ें »