Real Masi Sex Stories – रियल मासी सेक्स स्टोरीज

real masi sex stories में पढ़ें कि मैं अपनी चूलती मासी के घर रह कर नौकरी कर रहा था। मेरा मौसा शिपिंग कम्पनी में था। वो साल में एक दो बार ही घर आते थे।

नमस्ते दोस्तो, मेरा नाम सुरेश है। मेरी उम्र तेईस साल की है। मेरी हाइट 5 फिट 9 इंच की है और मर्दानी बदन है।

मैं तमिलनाडु से हूं। और पिछले चार महीने से अपनी मासी के घर नौकरी की वजह से रह रहा हूं। मैं नौकरी के लिए यहां आया था।

इस real masi sex stories में मेरी मासी के पति किसी शिपिंग कम्पनी में काम करते हैं। वो छह महीने में एक बार ही अपने घर आ पाते हैं।

इस real masi sex stories उनके घर में मेरे और मासी के अलावा उनकी सास और उनका लड़का राकेश ही था।

राकेश अभी बहुत छोटा था और उनकी सास हमेशा बीमार रहती थीं।

मौसा ने घर अच्छा और काफी बड़ा बना रखा था। उनके घर में 3 कमरे और एक बड़ा हॉल है।

मैं आपको पहले इस real masi sex stories में अपनी मासी के बारे में बता देता हु। वो 35 साल की हैं। उनका रंग सांवला है लेकिन बदन बहुत sexy है। मासी के 36 इंच के boobs 28 इंच की कमर और 37 इंच की गोल मटोल गांड काफी बाहर को निकली हुई है।

मेरी मासी के तने हुए boobs और बाहर को निकली गोल मटोल गांड से आपको उनकी मदमस्त फिगर का अंदाजा हो ही गया होगा कि उनकी बाकी की फिगर कैसी होगी। और आपकी real masi sex stories का मजा भी आने लगा होगा।

मासी मेरा बहुत ख्याल रखती थीं। मासी ने मुझे रहने को एक अलग कमरा दे रखा था।

एक कमरे में वो और उनका लड़का सोता था। और दूसरे कमरे में मैं सोता था। और उनकी सास तीसरे कमरे में सोती थीं।

राकेश कभी मासी के पास तो कभी मासी की सास के साथ सो जाता था।

हमारे बीच सब कुछ सामान्य ही चल रहा था। लेकिन वासना को जल्दी ही real masi sex stories मंजूर होगी।

एक रात को करीब एक बजे मेरी नींद खुली, तो मैं पानी पीने रसोई घर में गया।

रसोई में जाते समय मुझे किसी के रोने की आवाज आई।

मैंने तुरंत लाइट चालू की और देखा तो मासी रसोई घर में खड़ी रो रही थीं।

मैं मासी के पास गया और उनसे पूछा की क्या हुआ मासी … आप क्यों रो रही हो?

मुझे देख कर मासी ने रोना बंद कर दिया और मुझे कुछ भी बताने से हिचकिचा रही थी।

मैंने जब जोर दिया तो उन्होंने बताया कि एक लड़का उसे परेशान कर रहा है। उसने मुझसे फेसबुक पर दोस्ती की और मस्ती के लिए बात करना चालू कर दिया।

मैंने पूरी बात समझी तो पता चला कि उस लड़के ने मासी के कुछ फोटो हासिल कर ली थीं। और उनको फोटोशॉप एडिटिंग से अश्लील बना कर वो मासी को चुदाई के लिए ब्लैकमेल करने लगा था।

तब मैंने मासी खांदे पर हाथ रखकर धीरज दिया और उस लड़के की जानकारी मांगी।

मासी ने अपना मोबाइल मुझे दे दिया कि और बोला की इसमें उसका मोबाइल नम्बर है।

मैंने मासी के मोबाइल से उस लड़के का नंबर निकाल लिया। और अगले दिन उसको खोज करके अपने दोस्तों के साथ मिल कर अच्छे से उसकी पिटाई की।

उसके मोबाइल से मासी के सारे फोटो और नंबर डिलीट करवा दिए और उसे चेतावनी दे दी कि यदि तूने फिर से मेरी मासी को परेशान किया, तो पुलिस में तकरार कर दूंगा।

वो डर गया और उसने माफी मांगते हुए मासी को फिर से फोन ना करने की कसम खा ली।

शाम को मैंने घर पहुंच कर मासी को सारी बात बताई और उन्हें निश्चिंत होने को कहा।

मासी ने भी राहत की सांस ले ली।

दूसरे दिन देर रात को अचानक मेरे बेडरूम का दरवाजा खुला, मैंने तुरंत रूम का लाइट लगाया, तो देखा मासी मेरे रूम में थीं।

वो मेरे पलंग के पास आईं और मुझे गले लगाकर मुझे शुक्रिया कहने लगीं।

मैंने मासी को अपने बिस्तर पर बिठाया।

मासी ने कहा की तुमने मुझे बहुत बड़ी समस्या से निजात दिला दी है। यदि तुम नहीं होते तो न जाने मेरा क्या होता। ये कहते हुए मासी ने मुझे कसकर गले से लगा लिया।

आज पहली बार मेरी मासी के boobs मेरे सीने से छू रहे थे, तो मेरी बॉडी में जोर से करंट सा लगा।

मुझे अच्छा लगने लगा था तो मैंने भी मासी को कसकर पकड़ लिया और उनकी पीठ सहलाते हुए कहा की आपको मेरे होते हुए परेशान होने की कोई जरूरत नहीं है।

वो भी मेरी पीठ पर अपने हाथ फेर रही थीं।

फिर मैंने मासी से पूछा कि उनको ये सब करने की क्या जरूरत पड़ी?  किसी अनजान लड़के से दोस्ती करना क्या जरूरी था?

मासी उदास होकर बोलीं की मैं तुम्हे सब कुछ सच बता देना चाहती हूँ। तेरे मौसा तो साल में एक या दो बार ही घर आते हैं। मैं एक जवान औरत हूं। और तू समझ सकता है मेरी भी कुछ जरूरतें हैं। इसलिए मैं उस लड़के से अपनी जरूरतों को पूरा करने की कोशिश कर रही थी। बस इसी चक्कर में उस बदमाश के शिकंजे में फंस गई।

मासी की आंखें थोड़ी सी भर आई थीं। उनकी आंखों में आसूं के साथ साथ एक चाहत भरी नजर भी दिख रही थी।

मैंने फिर से मासी को गले लगा लिया और उनके कान में धीरे से कहा की मासी, आप बाहर क्यों किसी से अपनी जरूरतें पूरा करने की सोचती हो आपके घर में जब मैं हूं!

मेरी बात सुनकर मासी ने भी मुझे कस कर गले लगा लिया और पूछा की क्या तू पूरी करेगा मेरी जरूरतें!

मेरे लंड ने तुरंत ही सलामी दे दी। और मैंने मासी का चेहरा अपने हाथ में ले लिया।

मासी मेरी आंखों में वासना भरी नजरो से देखने लगीं।

मैंने अगले ही पल उनके होंठों को चूमते हुए कहा की मासी आज से मैं आपका मर्द हूं। और मेरा लंड अब से आपका ही है।

मासी ने ख़ुशी से मेरे चुम्बन का जवाब अपने प्यारे प्यारे होटों के चुम्बन से दिया। और जोर से मेरे होंठों को अपने होंठों में दबा लिया।

हम दोनों ने एक दूसरे के होंठों को चूमने और चूसने का मजा लेना शुरू कर दिया। दस मिनट बाद हम दोनों अलग हुए।

मासी मेरी तरफ देखते हुए बोलीं की …. मेरे राजा …. आज मेरी सारी प्यास बुझा देना। मैं आज से सिर्फ तेरी हूं, आज तू ऐसे चोद दे मुझे कि मुझे किसी बाहर वाले की जरूरत ही ना पड़े। बना ले मुझे अपनी गर्लफ्रेंड। चोद दे मुझे जल्दी से … अब देर मत कर …. मैं बहुत ही ज्यादा प्यासी हूं।

ये कहते हुए मासी ने एक हाथ मेरे लंड के ऊपर रखा और पैंट के ऊपर से ही लंड को मसलने लगीं।

मैं भी मासी से चिपक गया और हम दोनों ने अगले 20 मिनट तक एक दूसरे के अंगों को सहला कर, मसल कर चुम्बन आदि करते हुए निकाले।

अब हम दोनों भी वासना की आग में जलने लगे थे।

हम दोनों अलग हुए और मासी ने मेरी टी-शर्ट उतार दी, और पैंट खोल दिया। और मुझे अपने सामने चड्डी में कर दिया।

इसके बाद मासी ने अपने ब्लाउज के बटन खोल दिए और साड़ी उतार दी।

मैंने भी उनकी मदद की।

जल्द ही मेरी मदमस्त मासी सिर्फ ब्रा और चड्डी में मेरे सामने हो गई।

मैंने पहली बार किसी औरत को अपने सामने नंगी देखा था।

मासी मेरे पास आईं और मुझे उनकी ब्रा का हुक खोलने को कहा।

मैंने तुरंत ही मासी को अपनी बांहों में भर लिया। और उनकी ब्रा का हुक खोल दिया।

जब मासी की ब्रा उतरी, तो मेरी आंखें फटी की फटी रह गईं।

मैंने मासी के तरबूज जैसे boobs देखे तो मैं तो मानो पागल हो गया था। मैंने तुरंत मासी के दोनों boobs हाथ में पकड़ लिए और जोर से दबाने लगा।

मासी मादक भरी सिसकारियां लेने लगीं अह अह … सुरेश चूसो ताकद से … आह….. मैं बहुत प्यासी हूँ।

ऐसे बोलते हुए मासी ने अपना एक boobs मेरे मुँह में दे दिया।

फिर मैंने मासी का boobs प्यार से चूसना चालू कर दिया। बारी बारी से मैंने मासी के दोनों boobs जमकर चूसे।

मासी भी बड़े मजे से सिसकारियां ले रही थीं। साथ ही वो अपना एक हाथ मेरी चड्डी में डालकर मेरा लंड हिला रही थीं।

कुछ देर बाद मासी ने मुझे पलंग पर लेटने को कहा। मैं सीधा लेट गया।

मासी ने मेरी चड्डी निकाली और मेरा लंड प्यार से पकड़ते हुए बोलीं की अरे वाह इतना बड़ा लंड … मैंने तो कभी उम्मीद ही नहीं की थी कि तेरा लंड इतना बड़ा होगा।

फिर मैंने पूछा की क्यों मौसा का कितना बड़ा है?

वो हंस कर बोलीं की तेरे मौसा का लंड तेरे लंड से तो काफी छोटा है।

इसपर मैंने कुछ नहीं कहा।

तभी मासी मेरे लंड पर झुकीं और मेरा लंड अपने मुँह में लेकर प्यार से चूसने लगीं।

मैं भी कामुक सिसकारियां भरने लगा। अह…. आह….. मासी … और जोर से चूसो अह… आह!

मासी ने मेरे लंड को मुँह से बाहर निकाल कर कहा की सुरेश मुझे मासी नहीं, सविता बोल … मैं तेरी सविता गर्लफ्रेंड हूँ।

मेरी मासी का नाम सविता है।

मैं बहुत मजा लेने लग……. आह सविता…….. और जीर से लंड चूसो … अहह अह … सविता।

दस मिनट तक लंड चूसने के बाद मासी बोलीं की सुरेश, अब मुझसे रहा नहीं जाता, जल्दी से चोद दे मुझे।

मैंने मासी को तुरंत पलंग पर लिटाया और मैं मासी के दोनों पैरों के बीच में जा बैठा।

मासी की चड्डी पूरी गीली हो चुकी थी। मैंने उसे एक झटके में उतार दी। मासी की चूत पर एक भी नहीं था।

मैंने तुरंत ही मासी की चूत पर अपने होंठ रखे और चुत को चूमने लगा। उनकी चुत की फांकों को अपनी जुबान से चाटने लगा।

मासी को अच्छा लगने लगा। मुझे भी मासी की चूत चाटने में बड़ा मज़ा आ रहा था। 10 मिनट तक मै मासी की चूत चाटते रहा। फिर मासी बोली मेरी चूत को अब तेरे लंड के दर्शन भी करा दे। 

फिर मै खड़ा हुआ। और अपना लंड मासी की चूत पर रख दिया। लंड को चूत पर रगड़ते हुए मैने अपना लंड एक झटके में ही मासी की चूत के अंदर डाल दिया। मासी बिलबिला उठी। 

मेरा लंड चूत में जाते ही मासी को अच्छा लगने लगा था। इसीलिए वो अपनी गांड उठा उठाकर मेरे लंड को अपनी चूत में अंदर तक भरने का प्रयास कर रही थी।

मैंने समय बरबाद न करते हुए मासी को जोर जोर से चोदना चालू कर दिया। मासी की मादक भरी आवाजे निकलने लगी। 10 मिनट तक मै मासी को उसी पोजीशन में चोदता रहा। 

फिर मासी बोली की क्या तुम मुझे डॉगी स्टाइल में चोद सकते हो। मैंने कुछ न बोलते हुए मासी को डॉगी स्टाइल में चोदना चालू कर दिया। मासी को बड़ा मजा आ रह था। और मुझे भी उनकी बड़ी गांड अपनी आंखों के सामने देख कर बड़ा मजा आ रह था। 

मासी भी चुदाई के वक्त मेरा पूरा साथ दे रही थी। मै जोर जोर से झटके मारता रहा। लगभग 20 मिनट की चुदाई के बाद मैं मासी की चूत में और मासी मेरे लंड को अपने चूत में ले कर झड़ गई।

मासी की आज की प्यास मैंने बुझा तो दी थी। लेकिन फिर मासी और मै रोज चुदाई का खेल खेलने लगे। हर दिन हम नए स्टाइल में चुदाई करने लगे। मासी का दिल मेरे लंड पर आ गया था। और मेरा दिल मासी के boobs और चूत पर।

उम्मीद करता हु की आपको real masi sex stories पसंद आई होगी। कहानी कैसी लगी इस बारे में नीचे comment करे।

Related Stories

भाभी ने उसके बहन के लडकी की चुदाई मुझसे कराई।

भाभी सेक्स स्टोरीज में पढ़े कि मेरा चक्कर एक शादीशुदा भाभी से चल रहा था। उसका पति काम के सिलसिले में बाहर ही रहता था। भाभी की वासना को मिटाने काम मेरा ही था।  एक बार भाभी की बहन कि लड़की मतलब भाभी की भतीजी उसके घर एक महीने के लिए आई थी। तब उसने

पूरी कहानी पढ़ें »

साली की चुदाई। भाग २

हेलो दोस्तो साली की चुदाई (Sister in law sex) भाग 2 में आपका स्वागत है। उमीद करता हूं की आपको मेरे साली की चुदाई भाग १ बहुत पसंद आई होगी। और जिन्होंने भाग १ नहीं पढ़ा है, उनके लिए मै नीचे लिंक दे रहा हु। Sex With Sister in law -Part 1 भाग १ में

पूरी कहानी पढ़ें »

मेरी पहली सुहागरात

Indian Suhagrat – मेरी नई नई शादी हुई थी। मै अपनी बीवी को हनीमून के लिए अच्छी जगह लेकर गया। वहा मैंने उसके साथ सुहागरात मनाई उसे और मुझे बहुत मजा आया।  मेरा नाम राकेश है। मेरी उमर 28 साल है। मै मुंबई में रहता हूं। मैंने पहले बहुत सी लड़कियों को चोदा है। लेकिन

पूरी कहानी पढ़ें »