हम पांच दोस्तों ने गे को चोदा

Indian Gay Sex Stories में पढ़े कि हम पांच दोस्तों को एक गे ने गाली दी थी। तो हम सब ने मिलकर उसको चोदा। और फिर उसने कहा कि बहुत मजा आया मुझे।

मेरा नाम गुरप्रीत है। मेरे दोस्तो का नाम साहिल, इमरान, याकूब और छोटू है। हम लोगो को साथ में दारू पीने में बहुत मजा आता है। हम सब की उमर 24 साल है।

पहले मै अपने बारे में बता देता हु। मेरा कद 5.5 फीट का है। मै अभी फिलहाल कंपनी में जॉब कर रहा हु। रात को मुझे मेरे दोस्तो के साथ दारू पीने में बहुत मजा आता है। मेरा रंग सांवला है। मेरा लंड 5 इंच का है।

साहिल मेरा कॉलेज से दोस्त है। वो अभी जॉब ढूंढ रहा है। उसका कद 6 फीट का है। वो बहुत काला है। उसका लंड भी बहुत काला है। उसका लंड भी 5 इंच का है।

इमरान और याकूब मेरे साथ ही कंपनी में जॉब करते है। वो दोनो बहुत गोरे है। इमरान के लंड का साइज़ 4.8 इंच है। और याकूब के लंड ले साइज 5.5 इंच का है। 

छोटू का कद थोड़ा कम है। और उसका लंड भी उसके नाम की तरह छोटा है। उसका लंड 4 इंच का है। मै उसे बचपन से जानता हूं।

हम लोग हमेशा ही लडकी यो के मामले में आगे रहे है। हम में से सब ने 5 लड़कियों से ज्यादा ही लड़कियां चोदी है। हमे सिर्फ लड़कियां चोदने में बहुत मज़ा आता था।

हम हमेशा ही दारू पीते थे। दारू पीने के लिए हम दारू के ठेके पर ही बैठते थे। वहा वो दारू पीने के अलग से पैसे लेता था। साहिल को छोड़के हम सब काम करते थे। तो हमारे पास पैसे ज्यादा ही रहते थे।

साहिल एक दिन दारू पीने के लिए नहीं आया। हमारा मन नहीं लग रहा था। हमने अगले दिन जब  उससे पूछा तो वो बोला कि ठेके पर ज्यादा पैसे जाते है इसीलिए मै नही आया।

हम चारों दोस्तों को साथ में बैठ ने कि आदत हो गई थी। अगर हम में से एक भी कम हो जाए तो हमारा पीने का मन नहीं करता था। 

इसीलिए हमने प्लान बनाया कि हम दुकान से दारू खरीद के अंधेरे में कहीं आराम से बैठ के पी लेंगे।

उसी दिन हमने दुकान से दारू खरीद ली। और पीने के लिए अकेले में जगह ढूंढने लगे। हमे एक अंधेरे में खाली मैदान मिला। वहा पर कोई भी नहीं आता था। हमने अपना पीने का ढेरा नीचे लगा लिया।

1 महीने से हम वहा रोज आने लगे। हमे बहुत मजा आने लगा था। ना ही किसी कि रोक टोक थी। और ना ही किसी कि बंदिश्त्त थी। 

एक दिन हम दारू पी रहे थे। हमारे पास एक लड़का आया। उसने हमारे पास से हमे देखते हुए तीन चार चक्कर लगाए। और साहिल के बाजू में जा कर बैठ गया। हमने उससे पूछा कि भाई क्या चाहिए तुम्हे। तो वो बोला कि कुछ नहीं बस तुम्हारे साथ बैठने आया हु। हमे तब पता नहीं था कि वो गे है।

पहले मै आपको उस गे के बारे में बता देता हु। उसके बाद आगे की कहानी बताता हु। वो एक 18 साल का लड़का था। उसका लडकी जैसा पतला फिगर था। उसने अपने नाखूनों पर नेल पॉलिश लगाया था। ऐसा लग रहा था कि लड़के की भेस में लड़की खड़ी है।

कुछ देर साहिल के पास वो बैठा रहा। फिर उसने साहिल के कंधे पर हाथ रख दिया। हमने ज्यादा दारू नहीं पी थी। तो हम ज्यादा नशे में नहीं थे। फिर उसने कंधे पर हाथ रखते रखते ही साहिल के कान पर अपने हाथ सहलाना चालू किया। 

साहिल बोला अबे ये क्या कर रहा है। वो बोला तुम बहुत हॉट हो। हम सब को पता लग गया था कि उसकी भिंगरी उल्टी घूमती है। कुछ देर बाद वो साहिल के गालों को चूमने लगा। साहिल को गुस्सा आया और उसे गली देकर धक्का दे दिया।

फिर वो इमरान के पास आया। इमरान के पास बैठके उसने सीधा इमरान के लंड के ऊपर हाथ रख दिया। इमरान ने सीधा उसके कान के नीचे दे डाली।

वो वहा से रोते रोते चला गया। शायद उसके मन में वो बेइज्जती वाली बात चल रही थी। वो वहा से बहुत ज्यादा रो के चला गया। मुझे किसी को रुलाना अच्छा नहीं लगता। मुझे अच्छा नहीं लग रहा था।

अगले दिन हम फिर से उसी जगह दारू पीने के लिए गए थे। लेकिन इस बार छोटू गम में दारू पीने आया था। उसका उसकी गर्ल फ्रेंड के साथ ब्रेक अप हो गया था। उसकी गर्ल फ्रेंड ने उसे उसके छोटे लंड के कारण छोड़ा था। इसीलिए छोटू बहुत गुस्से में था। 

हम दारू पी रहे थे। हम काफी नशे में हो गए थे। इतने में वो गे फिर से आया। इसबार  वो  छोटू के  पास जा कर बैठा। छोटू के पास बैठते बराबर छोटू ने उसे बोला। कि देख भाई आज मेरा मूड बहुत खराब है। मै तुझे बहुत मारूंगा। छोटू पहले ही बहुत नशे में था।

फिर उसने छोटू का हाथ अपने हाथ में लिया। और बड़े प्यार से छोटू से पूछा कि क्या हुआ तुम्हे। छोटू अपने गर्ल फ्रेंड की याद में रोने लगा। उसने अपनी गर्ल फ्रेंड की कहानी उसे रोते रोते बता दी। फिर उसने छोटू से कहा कि मै तुम्हारा मूड ठीक कर सकता हूं। 

छोटू ने बोला कि तुम क्या कर लोगे। उसने छोटू से कहा कि तुम मुझे एक मौका तो दो। छोटू मान गया। छोटू को उसने साइड में लेके गया। झाड़ियों के पीछे छोटू ने उसे चोद दिया। करीब करीब 25 मि. के बाद छोटू और गे वापस आए।

उनकी चुदाई होने के बाद वो गे फिर से हमारे पास आया। फिर उसने हमसे कहा कि अब किसका मूड ठीक करना है। छोटू ने बोला कि सच में यार इसने मेरा मूड ठीक कर दिया है। 

लेकिन हम में से किसी कि ईच्छा नहीं हो रही थी। उस गे कि गांड़ मारने को। लेकिन याकूब को बहुत ज्यादा नशा हो गया था। उसने उसकी गांड़ मारने के लिए हां बोल दी। वो भी उसके साथ झाड़ियों के पीछे चला गया।

उनकी चुदाई बहुत लंबी चली। करीब करीब 30 मि कि चुदाई के बाद याकूब उस गे के साथ आया।  उसने भी उस गे कि बहुत तारीफ़ की। याकूब ने कहा कि इसने मेरा लंड बहुत कमाल का चूसा। उसके जैसी लंड चुसाई तो मेरे गर्ल फ्रेंड ने भी नहीं कि थी।

फिर उस गे ने फिर से हम तीनो से पूछा अब कौन आना चाहता है। लेकिन हम तीनो में से किसी कि ईच्छा नहीं हो रही थी। कुछ देर वो हमसे आने के लिए जबरदस्ती करता रहा। तब भी हम नहीं माने। फिर उसने गुस्से में आकर हमसे कहा कि तुम पांच दोस्तों में से सिर्फ 2 ही मर्द निकले बाकी सब तो नामर्द लग रहे है।

नामर्द सुनते ही हम सबको बहुत गुस्सा आ गया। हम सब खड़े हो गए और उसको घसीटते हुए झाड़ियों के पीछे लेकर गए। उसको बहुत मजा आ रहा था। उसने हम सबकी पैंट उतारी। हम सब अपना लंड लेकर उसके सामने खड़े हो गए।

उसने दो हाथो में इमरान और मेरा लंड पकड़ा। और साहिल का लंड अपने मुंह में ले लिया। वो मेरा और इमरान का लंड बहुत अच्छे से हिला रहा था। और साथ साथ साहिल का लंड बहुत अच्छे से चूस रहा था।

साहिल की लंड चुसाई होने के बाद उसने मेरा लंड अपने मुंह में ले लिया। और साहिल का लंड अपने हाथ से हिलाने लगा। जब उसने मेरा लंड लुसना चालू किया, तब वो सच में लड़कियों से अच्छा लंड चूस रहा था। बाकी सब जो उसकी लंड चुसाई कि तारीफ़ कर रहे थे। वो सच में सही थी। 

मेरी लंड चुसाई होने के बाद अब इमरान की बारी थी। लेकिन साहिल को उसे चोदना था। इसलिए वो गे झुक गया। झुकने के बाद उसने इमरान का लंड अपने मुंह में ले लिया। मेरा लंड अपने हाथ में पकड़ कर हिलाने लगा। और साहिल ने उसकी गांड़ के लंड डाल दिया।

साहिल ने उसे खड़े खड़े ही जोर जोर से धक्के मारना चालू किया। वो मेरा लंड बहुत अच्छे से हिला रहा था। और इमारन भी अपना लंड उसके मुंह में देख कर बहुत खुश था।

साहिल ने करीब करीब 15 मि. तक उसको झटके मारे। फिर साहिल झड़ गया। फिर साहिल ने इमरान को हटाकर अपना लंड उस 

गे के मुंह में फिर से दे दिया। फिर मैंने उसके गांड़ में अपना लंड डाल दिया। मुझे ज्यादा कुछ फील नहीं हो रहा था। लेकिन मै भी 10 से 12 मि. तक उसको चोदता रहा फिर मै भी झड़ गया।

उसके बाद साहिल छोटू और याकूब के पास चला गया। मैंने अपना लंड उसके मुंह में दे दिया। और इमरान ने अपना लंड उसकी गांड़ में डाल दिया। इमरान बहुत जोर जोर से उसे झटके मरने लगा। इमरान उसे 20 मि. तक चोदता रहा। 20 मि. के बाद मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था। इमरान झड़ गया था। उसने भी उसके मुंह में फिर से अपना लंड दे दिया। और मेरा लंड खड़ा होने कि वजह से फिर से उसकी गांड़ में अपना लंड डाल दिया। मै उसे 15 में तक चोदता रहा फिर मै दोबारा झड़ गया और वो गे भी मेरे साथ ही झड़ गया।

फिर हम दारू पीने वापस आए और वो गे भी हमारे पास आया। और बोला कि आज तुम लोगो ने मुझे बहुत खुश किया है। इतना बोल कर वो वहा से चला गया।

छोटू के गम की वजह से हम सब ने एक गे को चोदा। उसकी लंड चुसाई सच में बहुत अच्छी थी।

Hindi gay sex stories कैसी लगी इस बारे में नीचे कॉमेंट करे।