सिनेमा घर में मिली भाभी को चोदा

मेरा नाम इरफान है। मैं हैदराबाद का रहने वाला हु। मेरी उमर 21 साल है। मेरी मुलाकात सविता भाभी से सिनेमा घर में हुई थी। वो एक शादीशुदा औरत थी। वो भाभी एकदम मस्त सुंदर और खूबसूरत माल थी। वो अभी मात्र 30 साल की थी। उसकी शादी 4 साल पहले हुई थी। पर वो अपनी शादी से दुखी थी। क्योंकि उसके पति को सेक्स का मतलब बच्चा पैदा करके छोड़ देना है।

खैर अब मैं आपको ये indian bhabhi sex stories बताता हु।

बात कुछ 3 महीने पुरानी है। मैं मेरा दोस्त और उसकी गर्लफ्रेंड रात का शो देखने सिनेमा घर गए थे। भीड़ ज़्यादा होने कि वजह से हमें तीन टिकट एक साथ की नहीं मिलीं। मुझे सबसे पीछे वाली सीट मिली। और वो दोनो को आगे वाली सीट मिली। पिक्चर को चालू हुए आधा घंटा हो गया था। मेरा सिर्फ़ पिक्चर और मेरे दोस्त पर ध्यान था। पिक्चर बहुत सारे हॉट सीन थे। मेरा लंड खड़ा हो चुका था। 

अचानक मैंने महसूस किया कि कोई औरत जो मेरे बगल में  जीन्स और  टी-शर्ट पहनी थी। और साथ में उसने एक शॉल भी लिया हुआ था। वो सीट के हैण्डल को हटा कर मुझसे थोड़ा चिपकने कि कोशिश कर रही थी।

मैंने थोड़ी हलचल की, मै उसे बोलने ही वाला था तभी उसने अपना एक हाथ मेरे लंड पर और दूसरा हाथ मेरे मुंह पर रख दिया। मेरा लंड पहले से ही पिक्चर के हॉट सीन और दोस्त की गर्लफ्रेंड की हरकत की वजह से एकदम खड़ा था। उसके बाद मैंने बाजू वाली की आँखों में देखा तो  मैं बयान नहीं कर सकता कि वो कितनी सुंदर थी। ऊपर से उसकी वो कातिल बना देने वाली हसी। मैं उसे देख ही रहा था, तब तक उसने इशारे से शॉल मुझे खींचने के लिए ऑफर किया तो मैंने खींच लिया।

अब उसने अपने हाथ से मेरी पैन्ट की चैन खोली और मेरा लंड निकाल कर अपना मुँह शॉल के अंदर डाल कर मेरा  लंड अपने मुंह में लेकर चूसने लगी। मुझे लंड चुसाई में बड़ा मज़ा आ रहा था।

करीब 15 मिनट के बाद मेरा लंड झड़ने को आया तो मैंने उसके सर पर हाथ फेर कर इशारा किया। तो वो थोड़ा जोर जोर से मेरा लंड चूसने लगी। फिर अगले ही पल मेरा लंड उसके मुंह में झड़ गया। फिर उसने मेरा सारा वीर्य पी लिया।

उसके बाद उसने अपना मुँह बाहर निकाला और अपना मुंह मेरे शर्ट से पूछ लिया। अपने बाल ठीक करके मेरा हाथ पकड़ कर बैठ गई। उसने मुझसे कहा शुक्रिया।

मैंने भी शुक्रिया कहा। उसने पूछा कि तुमने कभी सेक्स किया है? तो मैंने कहा नहीं.

उसने पूछा- करना चाहते हो?

तो मैंने तुरंत ‘हाँ’ बोल दी।

वो बोली इसके लिए तुम्हें मेरे घर चलना पड़ेगा। मैंने बोला ठीक है, अभी चलूं?

उसने हां बोल  दी। तो मैंने उससे कहा कि आप बाहर निकल कर थोड़ा रुकिए, मैं अपने दोस्त को बता कर आता हूँ, कि मै थोड़ा बाहर जा रहा हु।

तो उसने कहा कि वो उसकी गाड़ी निकाल कर इंतजार करेगी। मैं अपने दोस्त के पास गया तो देखा कि वो अपनी गर्लफ्रेंड के बूब्स को दबाने में व्यस्त था। मैंने उसे मैसेज कर दिया और बाहर चला गया।

मैं बाहर निकला तो बहुत अँधेरा था और शायद वो भाभी अपनी निकाल कर आ रही थी। तो पहले मैं पुष्टि करना चाहता था कि वही है। मैं उसके पास गया, और बाजू में खड़ा हो गया।

उसने मुझे बैठने का इशारा किया, तो मैं कन्फर्म हो गया था और उसने अपने आपको थोड़ा उठाया और मेरा लंड बाहर निकाल कर लंड पर बैठ गई। मेरा हाथ अपने बूब्स पर रखवाया और ऊपर से शॉल ओढ़ ली।

अब हम निकल गए। मुझे उसके बूब्स को मसलने में बड़ा मज़ा आ रहा था। कुछ देर बाद हम एक अपार्टमेन्ट के बगल में रुके। फिर मैंने अपने हाथ उसके बूब्स से हटा कर अपना लंड पैन्ट के अंदर डाल दिया। और अपार्टमेंट के गेट के अंदर गए।

फिर उसने मुझसे शॉल ओढ़ कर अपना मुँह छिपा लेने के लिए कहा। और कहा कि ऐसे ओढ़ लो कि तुम्हारा चेहरा कैमरा के अंदर ना आए और कोई हरकत मत करना, जब तक घर के अंदर ना चले जाएं। मैंने कहा ठीक है।

हम फ्लैट के अंदर आ गए तो उसने मुझे बैठने के लिए कहा। और मुझे पानी दिया और मुझे अपनी जिंदगी के बारे में थोड़ा बताना चालू किया। वो बोली कि उसने शादी के बाद पति की सेक्स कि ताकत से मायूस होने पर अपने देवर को पटा लिया था। पर उसका लंड भी छोटा निकला, जिससे उसको संतुष्टि नहीं मिली। उसने मुझे अपनी शादी से पहले की बात बताई कि कैसे उसके बॉयफ्रेंड ने उसे धोखा दिया, शादी का वादा करके चोद लिया और बाद में शादी करने से मना कर दिया.

ये सब दुखभरी बाते बता कर वो रोने लगी।

तो मैंने उसे चुप कराया, उसकी आँखों पर चुंबन किया और उसके बदन के साथ खेलने लगा। मै उसके पेट को गुदगुली करने लगा।

इसके कुछ पल बाद उसने फ्रिज में रखी ठंडी बियर निकाली और मुझे पीने के लिए दावत दी। हम दोनों ने साथ में बैठ कर बियर पी। थोड़ी देर में मुझे थोड़ा नशा चढ़ गया। शायद उसे भी नशा आ गया था।

हम दोनों एक दूसरे को जोर से चूमने लगे। अब मैं उसके कपड़े उतारने की कोशिश ही कर रहा था, तब तक उसने मेरे पूरे कपड़े उतार दिए। 

फिर अपने पूरे कपड़े उतरवाने में मेरा साथ दिया। हम दोनो एक दूसरे के सामने चड्डी पर खड़े थे। उसने अपनी ब्रा पहले ही निकाल दी थी। मैं उसके बड़े बड़े बूब्स से उसका दूध पीने लगा। और चुत को चड्डी के ऊपर से ही छूने लगा। फिर उसने मेरी चड्डी उतारी और मेरे लंड को फिर से अपने मुंह में ले लिया। मुझे उससे लंड चुसाई में सच में बहुत मजा आ रहा था।

फिर मैंने उसे बेड पर सुला दिया। और उसकी चड्डी निकाल दी। उसकी गुलाबी चूत पानी छोड़ रही थी। उसकी चूत पर एक भी बाल नहीं था। फिर मैंने उसकी चूत को चाटना चालू किया। फिर उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी चुत के छेद का रास्ता दिखाया। उसकी चूत में उंगलियां डालते डालते मै उसकी चूत चाट रहा था। उसकी मादक भारी आवाजे निकल रही थी। अह्ह्ह्ह….. अह्ह्ह्ह…..अह्ह्ह्ह….. आह…..।

मैंने  देसी भाभी की सेक्स कहानी में पढ़ा था कि चूत कैसे चाटते हैं, वैसे ही मैं उसकी गुलाबी चुत चाटने रहा। मैंने कुछ ही देर में उसका कामरस निकाल दिया। उसको बहुत मजा आ रहा था।

इसके बाद मैंने अपना लंड उसकी चुत के मुँह पर लगाया और ज़ोर का धक्का मारा।  सिर्फ़ सुपारा ही अंदर गया। वो एकदम से चीखने ही वाली थी कि मैंने पहले अपने हाथ से उसका मुँह दबा दिया। फिर एक पल बाद अपना हाथ उसके मुंह से हटा कर उसके मुँह पर अपना मुँह रख कर 5 बार रुक रुक कर जोर से पूरी ताकत से धक्के मारे। मेरा पूरा लंड अंदर उसकी चूत कि जड़ तक घुस गया। उसका मुँह फूल गया था जैसे वो खूब ज़ोर से  चीखना चाहती हो। पर मैं वैसे ही 10 मिनट तक दम से झटके मारता रहा.

जब मैंने महसूस किया कि उसकी चुत से उसका रस निकल रहा है और लंड भी आसानी से अंदर बाहर होने लगा है, तब मैंने उसका मुँह खोला। उसने गाली बकना शुरू कर दीं। वो बोली तुमको समझता नहीं क्या की, शुरुवात आराम से करनी थी करके। मैंने उसकी बातो पर कोई ध्यान नहीं दिया। और उसकी चुत में लंड और ज्यादा जोर से अंदर बाहर करने लगा।

कुछ देर बाद वो चुप हो गई और चुदाई का मजा लेने लगी। कुछ देर बाद वो एक बार फिर झड़ गई। फिर मैंने उसको डॉगी वाले अंदाज में झुकाया। और उसकी गांड़ को चाटने लगा। जैसी ही उसकी गांड़ गीली हो गई। वैसे ही मैंने उसकी गांड़ में अपना लंड डाल दिया।

उसको लगा था कि मै उसकी चूत में लंड डालूंगा। लेकिन मैंने जैसे ही उसकी गांड़ में लंड डाला तो वो फिर से चिल्लाने लगी। फिर मैंने एक हाथ से उसके मुंह पर हाथ रख दिया। और दूसरे हाथ से उसके बाल पकड़ लिए। और उसकी गांड़ आराम आराम से चोद रहा था। उसकी गांड़ चोदकर मुझे बहुत मजा आ रहा था। उसकी आवाजे मुझे और ज्यादा उत्तेजित कर रही थी। अह्ह्ह्ह….अह्ह्ह्ह….अह्ह्ह्ह….. अह्ह्ह्ह।

उसकी गांड़ मै 10 मि. तक चोदता रहा। उसके बाद मैंने उससे कहा कि मैं अभी झड़ने वाला हूँ। तो उसने कहा कि अपना वीर्य  मेरी चुत के अंदर ही निकालना। फिर मैंने उसकी गांड़ से अपना लंड निकाला। और उसकी चूत में डाल दिया। उसको बहुत मजा आ रहा था।

मै झड़ने वाला था। इसीलिए मेरी चोदने कि रफ्तार बाढ़ गई थी। फिर मैं पूरा मस्त होकर उसकी चुत ऐसे झड़ा जैसे कि अपनी पूरी जान उसकी चुत के जरिये उसकी चूत में डाल रहा हु।

मैं थक कर उसके ऊपर ही आँख बंद करके ढेर हो गया. एक मिनट बाद उसने मुझे नीचे सरका कर बगल में कर दिया। मुझे नींद सी आ गयी। उसने मुझे किस करना चालू किया। चुदाई करके हम दोनो को बहुत मजा आया था।

ऐसी थी भाभी कि चुदाई। 

कहानी कैसी लगी इस बारे में कॉमेंट करे।

Related Stories

Bhabhi Ki Chudai – चॉल वाली भाभी की जोर जोर से चुदाई

मेरा नाम सागर है। मै anatrvasna कि कहानियां को हमेशा ही पढ़ता हु। और पढ़कर मै अपने लंड को हिला कर खुदको शांत कर लेता हु। आज आपको bhabhi ki chudai पढ़ के काफी मजा आने वाला है। Anatarvasna मेरी सबसे favorite story एक दिन अनजान भाभी के साथ ये है। आप भी इसे पढ़िएगा, आपको

पूरी कहानी पढ़ें »

पड़ोसी चाची की चुदाई

इंडियन भाभी सेक्स स्टोरीज में पढ़े कि,  मेरे बाजू में एक आंटी रहती थी। मै उनको चाची बुलाता था। चाची के पति फौज में हैं। और वो उनकी सेक्स कि भूख नहीं मिटा पाते हैं। इसलिए वो अपनी शारीरिक भूख से परेशान थीं। मैंने उनकी इस परेशानी को मिटाने में उनकी मदत कि। शुरुआत में

पूरी कहानी पढ़ें »

भाभी ने उसके बहन के लडकी की चुदाई मुझसे कराई।

भाभी सेक्स स्टोरीज में पढ़े कि मेरा चक्कर एक शादीशुदा भाभी से चल रहा था। उसका पति काम के सिलसिले में बाहर ही रहता था। भाभी की वासना को मिटाने काम मेरा ही था।  एक बार भाभी की बहन कि लड़की मतलब भाभी की भतीजी उसके घर एक महीने के लिए आई थी। तब उसने

पूरी कहानी पढ़ें »