बुआ के लडकी की चुदाई

सेक्स दुनिया में पढ़े कि मैं अपनी बुआ के घर गया था। मेरी बुआ की लड़की अकेली थी। उसकी मोटी गांड देख कर मेरी वासना जाग गई। तब मैंने उसे चोद दिया।

मेरा नाम राकेश है। मै हरियाणा का रहने वाला हूं। मै सेक्स दुनिया पर अपने जिंदगी की सच्ची कहानी बता रहा हु। 

मै आपको मेरे बारे में बता देता हु। मेरी उमर 24 साल है। मै रोज जिम में जाता हूं। मेरी अच्छी खासी बॉडी है। मै दिखने में हैंडसम भी हु। मेरा कद 6 फीट है। मेरा लंड 7 इंच का है। अगर कोई लडकी मेरे लंड को देख ले तो वो खुदको मुझसे चुदवाने के लिए तैयार हो जायेगी।

छे महीने पहिले मै किसी काम से बुआ के घर गया था। मेरा वहा जाना अचानक हुआ। इसीलिए मैंने अपनी बुआ को खबर नहीं कि थी। मेरे वहा जाने के बाद मुझे पता चला कि मेरी बुआ और सारा परिवार घर पर नहीं है। घर में सिर्फ मेरी बुआ की लड़की थी।

बुआ की लडकी मुझे वहा देख कर खुश हुई। उसने मुझे अंदर बुलाया। आओ राकेश, आज अचानक कैसे आ गए। मैंने बोला कुछ नहीं सबकी याद आ रही थी तो चला आया। उसने कहा आओ बैठो खुर्ची पे मै तुम्हारे लिए चाय बनाती हूं।

वो चाय बनाने के लिए किचन में चली गई।

मेरी बुआ की लड़की का नाम प्रियंका है। सब उसे प्यार से प्रिया बुलाते है। वो मुझसे 2 साल बड़ी है। मतलब उसकी उमर 26 साल है। वो थोड़ी मोटी है। उसका फिगर 39-34-40 है। वो बहुत गोरी है। उसके गोरे रंग से वो बहुते अच्छी दिखती है। उसके बूब्स और गांड़ काफी बड़े है। उसका कद  5 फीट का है। 

प्रिया ने मेरे लिए चाय लाई। फिर वो मेरे साथ ही खुर्ची पर बैठ गई। फिर हम बाते करने लगे। उसने बोला कि पापा के दोस्त के बेटे की शादी हो रही है तो सब उसकी शादी में गए है। सब कल शाम को ही आयेंगे। मैंने बोला कोई बात नहीं अभी तुमसे तो मिलना हो ही गया न। उनसे मिलने मै फिर से आ जाऊंगा।

वो बहुत मजाकिया लडकी है। उससे बात करते करते कब समय बीत गया पाता ही नहीं चला। शाम होने लगी थी। उसने बोला मुझे की राकेश तुम थोड़ी देर बैठो मैं तुम्हारे लिए गरम गरम खाना बनाती हूं। मैंने बोला ठीक है।

वो किचन में जाने लगी तब मैंने उसे गौर से देखा। उसने सवार सूट पहन रखा था। ऊपर से चुनरी  भी ले लो थी। उस सलवार सूट में से उसकी बड़ी गांड़ बहुत सेक्सी लग रही थी। मेरी थोड़ीसी वासना जाग रही थी। 

फिर मैंने टीवी लगाया। और मै टीवी में बिजी हो गया। 1 घण्टे बाद उसने मुझे आवाज दी। राकेश आ जाओ खाना लग गया है। तब तक रात के 8 बज चुके थे। 

हम दोनो खाना खाने के लिए साथ में ही बैठ गए थे। वो मुझे बैठ के ही परोस रही थी। तभी उसकी चुनरी नीचे गिर गई। तब मेरी नजर उसके बूब्स पर चली गई। वो बहुत बड़े और रसीले थे। उसको दिख गया था कि मेरी नजर उसके बूब्स को देख रही थी करके। तो उसने अपनी चुनरी ऊपर कर ली। लेकिन तब तक मेरा लंड खड़ा हो चुका था।

खाना ख़त्म हुआ और वो किचन में बर्तन रखने के लिए चली गई। मै टीवी देखने के लिए चला गया। टीवी देखते देखते मेरे मन में प्रिया के बूब्स और गांड़ ही चल रहे थे। प्रिया मुझे पहले से ही बहुत पसंद थी। उसकी गांड़ को देख कर मेरा हाथ बार बार मेरे लंड पर ही जा रहा था। मै पैंट के ऊपर से ही अपना लंड हिलाने लगा।

प्रिया मेरी तरफ आई। उसने मुझे लंड हिलाते हुए देख लिया था। प्रिया गुस्सा हो गई और बोली ये क्या कर रहे हो राकेश। मैंने अपना हाथ लंड से हटा लिया। और बोला कुछ नहीं प्रिया।

फिर वो गुस्से में बोली। खाना खाते हुए तुम क्या देख रहे थे। मै थोड़ा डर गया।मैंने बोला कुछ नहीं।

फिर उसने शान्ति से पूछा क्या तुम्हारी कोई गर्ल फ्रेंड है। मैंने कहा हां है। वो मुस्कुरा कर बोली अच्छा तुम्हे गर्ल फ्रेंड भी है। मै समझ गया वो अभी मुझसे मजाक के मूड में है। 

मैंने बोला प्रिया मेरी गर्ल फ्रेंड तो है लेकिन उसके बहुत छोटे बूब्स है। तुम्हारे काफी अच्छे बूब्स है। वो मुस्कुरा दी और बोली बस बस जादा बाते नहीं।

मैंने फिर से कहा अरे सच में प्रिया तुम बहुत खूबसूरत हो। वो शरमाने लगी और बोली क्या खूबसूरत है। मैंने बोला बहुत कुछ खूबसूरत है। और तुम्हारा फिगर तो कमाल का है। वो शरमा गई और बोली बस बस ज्यादा तारीफ नहीं। मै बिस्तर लगा देती हु तुम आराम करना। और वो जाने लगी।

जैसे वो पीछे पलटी उसकी बड़ी गांड़ मटक मटक कर हिल रही थी। फिर मै खुर्ची से उठा और उसे पीछे से पकड़ लिया। वो बोलने लगी ये क्या कर रहे हो। मै बोला कुछ नहीं तुम से प्यार कर रहा हु। वो मुझसे खुदको छुड़वाने लगी। मै उसको गर्दन पर चूमने लगा। वो बोलने लगी छोड़ो मुझे ये गलत है। तुम छोटे हो मुझसे। लेकिन मै उसकी गर्दन को चूमता रहा। कुछ देर बाद वो भी मेरा साथ देने लगी।

फिर मैंने उसकी चुनरी निकाल के फेक दी। और ड्रेस के ऊपर से ही उसके बूब्स दबाने लगा। उसके मुंह से मादक आवाजे निकलने लगी आह…आह…। फिर मैंने उसके ओठोको चूमना चालू किया। वो भी मुझे किस करने लगी।

फिर मैंने उसके ऊपर कि कुर्ती निकाल ना चालू किया और निकाल के दूर फेंक दी। कुर्ती निकलते ही उसके बड़े चूचियां उसके गुलाबी ब्रा के नीचे छुपे हुए थे। अब वो मेरे सामने आधी नंगी खड़ी थी।

फिर मैंने उसे चूमना चालू किया। उसके बदन को मै चाटने लगा। उसके कान को चूमते ही वो गरम होने लगी। कुछ देर चूमने के बाद मै उसे कमरे में लेके गया। फिर उसका मैंने पैजामा निकला। उसका पूरा नंगा बदन मेरे सामने था। उसको उस हालत में देख के मेरा लंड चड्डी में तड़फ रहा था। मैंने जल्दी जल्दी अपने कपड़े उतारे और उसके सामने सिर्फ चड्डी पर रह गया। 

मुझे चड्डी पर देख कर वो शरमा गई और अपने हाथो से अपनी आंखे बंद कर ली। मैंने प्यार से उसका हाथ पकड़ा और अपने लंड पर रख लिया। मेरा इतना बड़ा लंड देख कर वो डर गई। वो बोली ये कौनसा जानवर अन्दर छुपा रखा है राकेश। मैंने बोला ये उछल ने वाला घोड़ा है। वो हंस पड़ी।

फिर मैंने उसे पलंग पर सुला दिया। और उसकी ब्रा निकाली और उसकी चूचियों को चूसने लगा। और मेरा हाथ उसकी चड्डी के ऊपर से उसके चूत को सहला रहा था। उसकी आवाज चालू थी। आह….आह।….अह्ह…।

कुछ देर मै उसके बड़े बड़े चूचियों से दूध पीता रहा मुझे बहुत मजा आ रहा था। मैंने इतने बड़े बूब्स कभी नहीं चूसे थे।  कुछ देर चूचियां चूसने के बाद मैंने उसकी चड्डी निकाली। उसकी चूत पर छोटे छोटे बाल थे लेकिन वो ताज़ी चूत लग रही थी।

मैंने उसे पूछा क्या तुमने पहले सेक्स किया है तो उसने बोला हां। लेकिन सिर्फ दो बार। मैंने बोला फिर तो तुम्हे मेरे बड़े  लंड से बहुत तकलीफ़ होगी। तो वो बोली तकलीफ़ तो होगी लेकिन मजा भी बहुत आयेगा न। 

फिर मैंने उसे बोला क्या तुम मेरा लंड चूसना चाहोगी उसने बोला नहीं। मैंने बोला क्यूं। उसने बोला पहले तुम मेरी चूत चाटो फिर मै तुम्हारा लंड चुसूंगी। मैंने बोला ठीक है।

मै उसकी चूत चाटने लगा वो मादक आवाजे निकाल रही थी। उसकी आवाजे सुन कर मेरी अन्तर्वासना जाग रही थी। फिर मैंने उसकी दोनो टांगो को पकड़ लिया और उसकी चूत की दबाके चाटने लगा। 

कुछ देर चाटने के बाद उसने मेरी चड्डी उतारी और मेरा लंड अपने मुंह में ले के चूस ने लगी। इसको लंड चुसाई अच्छे से नहीं आती थी। मुझे कुछ भी मजा नहीं आ रहा था। तो थोड़ी ही देर बाद मैंने उसे पलंग पर सुला दिया।

फिर मैंने उसकी दोनो टांगे बाजू में कि। और अपना लंड उसके चूत पर रगड़ने लगा। उसकी आवाजे निकलने लगी। मैंने धीरे से अपना लंड उसकी चूत में घुसाना चालू किया। वो अपनी चूत को सिकुड़ रही थी शायद उसको दर्द हो रहा था।

फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला। और किचन में गया। किचन में से मैंने तेल लाया। कमरे में वापस आया और पहले मैंने अपने लण्ड को तेल लगाया फिर मैंने उसकी चूत को तेल लगाया। मैंने तेल को बाजू में रख दिया।

फिर उसकी चूत में अपना लंड घुसाने लगा। वो धीरे धीरे अंदर घुसता गया। उसके मुंह से आवाजे निकलती रही। आह…. आह… अह्ह्ह्…आराम से…. 

अगले 5 मि तक मै आराम आराम से धक्के मारता रहा। फिर मैंने अपना लंड बाहर निकाला। मुझे उसकी गांड़ बहुत पसंद आई थी। इसीलिए मैंने उसे उलटा किया। और डॉगी स्टाइल में उसकी चूत में लंड डाल कर उसे जोर जोर से चोदने लगा।

उसे भी वो डॉगी स्टाइल बहुत पसंद आई। उसकी आवाजे बदलने लगी। मै जोर जोर से धक्के मारने लगा। वो मादक आवाजे निकाल रही थी। आह…और जोर से और जोर से…..आह…..।

मै जब उसकी चूत में झटके मार रहा था तब उसकी मुलायम जैसी गांड़ मेरी जांघो को टकरा रही थी।  मुझे बहुत मजा आ रहा था। 15 में कि ठुकाई के बाद प्रिया झड़ गई। लेकिन मै उसे चोदता रहा। उसके 5 मिं बाद मै भी उसकी चूत में झड़ गया।  

उसको बहुत मजा आया था। और उससे कहीं ज्यादा मुझे मजा आया था। उसकी मुलायम गांड़ मुझे बहुत पसंद आई थी। कुछ देर बाद हम एक  ही बेड पर सो गए।

मै रात को फिरसे उठा, उसकी गांड फिरसे बड़ी दिख रही थी, मैंने उसको फिरसे चोदा, उसको छोड़ने का दूसरा भाग जानने के लिए कमेंट करे|

Related Stories

Real Masi Sex Stories – रियल मासी सेक्स स्टोरीज

real masi sex stories में पढ़ें कि मैं अपनी चूलती मासी के घर रह कर नौकरी कर रहा था। मेरा मौसा शिपिंग कम्पनी में था। वो साल में एक दो बार ही घर आते थे। नमस्ते दोस्तो, मेरा नाम सुरेश है। मेरी उम्र तेईस साल की है। मेरी हाइट 5 फिट 9 इंच की है

पूरी कहानी पढ़ें »

दोस्त के गर्लफ्रेंड की चुदाई

सभी पाठको का सेक्स दुनिया पर स्वागत है। मेरा नाम चुलबुल है। मै बनारस का रहने वाला हु। मेरी कोई गर्लफ्रेंड नहीं है। लेकिन मै अपने दोस्त की गर्लफ्रेंड पर लाइन मारता था। मै उसे चोदना चाहता था। ये मेरी ख्वाहिश पूरी हुई थी। मै आपको आज उसी girlfriend cheating के बारे में बताने वाला

पूरी कहानी पढ़ें »

गांव कि कुंवारी चूत

सेक्स दुनिया पर आप सब पाठको का स्वागत है। आज कि कहानी में पढ़े कि, मै शहर में रहता हूं। मेरा खेत एक गांव में है। मै अपने गांव में अपने खेत को देखने के लिए गया था। तब मुझे गांव के कुंवारी लड़की की कुंवारी चूत चोदने का मौका मिला था। पहले मैं अपने

पूरी कहानी पढ़ें »